Welcome to NBCC
NBCC Ltd.

डॉ. अनूप कुमार मित्तल , अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक

प्रिय साथियो !

मैं एक लंबे अंतराल के बाद आप से संवाद कर रहा हूँ इन सभी महीनों के दौरान हमारी कंपनी के तेजी से विकास की दिशा में महत्वपूर्ण घटनाएं हुई और कई प्रयास किए गए हैं। मैं संक्षेप में जानकारी देना चाहता हूँ जिससे आप महसूस करेंगे कि हम सबने एक टीम के रूप मेंकाम किया जिसका सकारात्मक प्रभाव एनबीसीसी पर पड़ा है तथा भविष्य के विकास के लिए कई अवसर खुले हैं।

  • जून, 2014 में एनबीसीसी को नवरत्न का दर्जा प्राप्त हुआ है, कंपनी ने इस बढ़ी हुई कार्यात्मक स्वायत्तता के उपलब्ध का लाभ उठाने के अवसर तलाशने शुरू कर दिए हैं। जैसे कि आप जानते हैं कि नवरत्न का दर्जाप्राप्त होने के पश्चात , सीएसआर परियोजनाओं, रखरखाव और आतिथ्य के कार्यों के लिए एनबीसीसी ने हाल ही में अक्टूबर 2014 में, एनबीसीसी सर्विसेज लिमिटेड नाम की एक पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी की स्थापना की है।
  • सतत विकास की दिशा में अपने प्रयासों को बढ़ावा देने के क्रम में, एनबीसीसी ने निर्माण क्षेत्र के विकास में एक प्रमुख शेयरधारकहोने के नाते , अनुसंधान एवं विकास की अनिवार्यताओं का जवाब देने, के लिए अपनी जिम्मेदारी निभाते हुए आईआईटी रुड़की के सहयोग से नवाचार और अनुसंधान एवं विकास के लिए स्वयं का केंद्र स्थापित किया है ।
  • अपना मार्जिन बढ़ाने के लिए, एनबीसीसी रियल एस्टेट और सम्पत्तियों के पुनर्विकास में अपनी हिस्सेदारी बढ़ा रही है। इस पहल की अच्छे लाभांश की प्राप्ति के रूप में कंपनी ने हाल ही में विभिन्न सरकारी संगठनों जैसे एयर इंडिया,नवाड्को , सीपीडब्ल्यूडी , डीडीए की सम्पत्तियों के विकास के लिए महत्वपूर्ण समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए हैं। रियल एस्टेट में अपनी हिस्सेदारी बढ़ाने के लिए कंपनी पूरे देश भर में तेजी से अपने भूमि बैंक के भंडार को बढ़ा रही है। इन पहलों के परिणामस्वरूप आने वाले वर्षों में हमारे अचल संपत्ति और पुनर्विकास के क्षेत्र में बहुत बड़ा प्रभाव पड़ेगा और हमारी विकास की संभावनाओं भी प्रबल होंगी।
  • भविष्य की चुनौतियों को देखते हुए ,विश्व स्तर पर अपनी उपस्थिति बढ़ाने के लिए कंपनी ने ओमान, मलेशिया में स्थित विभिन्न विदेशी संगठनों के साथ इन देशों तथा उनके पड़ोसी देशों में कार्य प्राप्त करने के लिए हाल ही में समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए हैं। इस उद्यम का पालन करने के लिए, एनबीसीसी द्वारा ओमान में एक कार्यालय खोला गया है।
  • केंद्र में नई सरकार के स्वच्छ भारत अभियान में सहभागिता प्रदान करते हुए एनबीसीसी ने स्वेच्छा से ओडिशा, झारखंड, पूर्वी उत्तर प्रदेश और छत्तीसगढ़ जैसे राज्यों के ग्रामीण क्षेत्रों में बड़ी संख्या में शौचालय का निर्माण शुरू किया है।

प्रचालन-वार यह कुछ महत्वपूर्ण कदम उठाए गए हैं जिसके कारण कंपनी की स्थिति बेहतर हुई है। इसके अलावा, आप जानते हैं कि अब तक एनबीसीसी की आदेश बही में 20,000 करोड़ रुपये से अधिक के कार्य आदेश प्राप्त हैं। प्रदर्शन के लिहाज से भी, कंपनी लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रही है और अपने निवेशकों के बीच विश्वास का उच्च स्तर बनाए हुए है। लिस्टिंग के बाद से कंपनी के शेयर की कीमत में मार्केट कैप में लगातार वृद्धि हुई है। इस प्रकार हमने प्रभावपूर्ण यात्रा तय की है और यह वास्तव में कई मूल्य परिवर्धन के साथ कंपनी के लगातार विकास और विस्तार का अनुभव करना हम सभी के लिए शुभ संकेत है।

मैं स्पष्ट करना चाहता हूँ कि हमारी स्पष्ट कॉर्पोरेट रणनीति, दृष्टि और मूल्यों की वजह से एनबीसीसी के कार्य में निखार आ रहा है। उत्कृष्टता, नेतृत्व और नवाचार के रूप में विशेषताओं के लिए प्रतिबद्धता की हमारी लंबी विरासत के साथ 54 से अधिक वर्षों से सेवा प्रदानकर रहे हैं ।यदि हम सही भावना से कार्य करते रहें तो हमें भविष्य में भी इनका प्रतिफल मिलता रहेगा।

संगठन को और अधिक गौरव दिलाने के लिए हमारी आगे की यात्रा के हमारे मिशन को बढ़ाने के लिए आइए हम सब मिलकर संकल्प करें।


शुभकामनाओं सहित,

डॉ अनूप कुमार मित्तल
अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक

डॉ. अनूप कुमार मित्तल को सिविल इंजीनियरिंग, परामर्श और परियोजना के कार्यान्वयन में 32 से अधिक वर्षों का अनुभव प्राप्त है तथा वे शहरी विकास मंत्रालय, भारत सरकार के अधीन कार्यरत अनुसूची 'क' नवरत्न कंपनी,नेशनल बिल्डिंग्स कन्स्ट्रक्शन कार्पोरेशन लिमिटेड (एनबीसीसी) के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक के पद पर कार्यरत हैं।

1985 से देश में और विदेशों में एनबीसीसी की महत्वपूर्ण परियोजनाओं में से कई परियोजनाओं का नेतृत्व करने वाले डॉ. मित्तल, कंपनी के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक के रूप में निम्नलिखित के लिए जिम्मेदार हैं:

  • कंपनी के परिचालन पर सभी नीतिगत फैसलों की अगुवाई
  • नवरत्न का दर्जा हासिल होने के कारण सरकार द्वारा कंपनी को दिए गए व्यापार के संचालन में कंपनी के प्रमुख निवेश की योजना है पर निर्णय लेना।
  • एनबीसीसी सम्पूर्ण संचालन की देखरेख।
  • पूरे देश में कुशल और पर्यावरण अनुकूल सतत निवास स्थान के विकास में एनबीसीसी की सभी पहलों के अग्रणी।
  • एनबीसीसी द्वारा निष्पादित अन्य अवसंरचना परियोजनाओं जैसे सड़कों, पुलों, राजमार्गों, हवाई अड्डों, स्वास्थ्य केन्द्रों, कॉलेजों, विश्वविद्यालयों, संस्थानों आदि के साथ नीतियों का निर्धारण एवं विकास के समुचित एकीकरण और प्रबंधन के साथ अनुकरणीय ,अद्वितीय ग्रीन, पर्यावरण के अनुकूल, आवासीय, वाणिज्यिक, संस्थागत और कार्यालय परियोजनाओं का निर्माण करके आवास विकास के कार्यान्वयन को सुनिश्चित करना।
  • राष्ट्रीय महत्व की कंपनी की प्रमुख परियोजनाओं का समय पर और गुणवत्ता के साथ निष्पादन सुनिश्चित करने के लिए इनकी नियमित समीक्षा करना।
  • सामूहिक आवास परियोजनाओं, अर्द्ध सैनिक / एनएसजी परियोजनाओं, ईएसआईसी परियोजनाओं, हरियाणा सरकार के मेडिकल कालेजों, भारत-बांग्लादेश/पकिस्तान सीमा पर बाड़ लगाने का कार्य, पूर्वोत्तर क्षेत्र में विभिन्न सरकारी परियोजनाओं, ठोस कचरा प्रबंधन परियोजनाओं, जेएनएनयूआरएम / यूआईडीएसएसएमटी परियोजनाओं, सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट , जल आपूर्ति एवं रखरखाव कार्य सहित अवसंरचना परियोजनाओं,का देश के विभिन्न भागों और विदेश में नेतृत्व।

अपने नेतृत्व में निष्पादित अनुकरणीय ,अद्वितीय ग्रीन, पर्यावरण के अनुकूल, आवासीय, वाणिज्यिक, संस्थागत और कार्यालय परियोजनाओं का निर्माण व आवास विकास में अपना योगदान करके , अन्य अवसंरचना परियोजनाओं जैसे सड़कों, पुलों, राजमार्गों, हवाई अड्डों, स्वास्थ्य केन्द्रों, कॉलेजों, विश्वविद्यालयों, संस्थानों आदि के साथ विकास कार्य के समुचित इंटीग्रेशन और प्रबंधन को सुनिश्चित किया है।

ट्रेंचलेस प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में विशेषज्ञता होने के अलावा , डा. मित्तल को बड़ी सिविल निर्माण परियोजनाओं के निष्पादन में दक्षता प्राप्त है जिसकी वजह से निर्माण के क्षेत्र में एनबीसीसी को प्रसिद्‌धि प्राप्त हुई है।

डॉ. मित्तल की दूरदर्शी सोच के कारण एनबीसीसी ने न केवल सफलता और लाभप्रदता की सीढियाँ पार की हैं बल्कि सभी क्षेत्रों में आवास की बड़ी आवश्यकता को देखते हुए देश के रियल एस्टेट क्षेत्र का दोहन करने के क्रम में एनबीसीसी के प्रचालनों को पुन: नीतिबद्‌ध किया है। इस संबंध में वाणिज्यिक और आवासीय रियल एस्टेट परियोजनाओं में योजनाबद्‌ध निवेश के लिए बड़ी राशि के आवंटन के साथ , एनबीसीसी के विश्वसनीय और अभिनव रियल एस्टेट कार्य के साथ देश के हर राज्य में एनबीसीसी की पहुँच स्थापित करने की उनकी योजना है।

जनता और सरकारी कर्मचारियों के लिए आवास बैकलॉग के मुद्दों से निपटने के लिए सरकार के संकल्प में साझेदारी करने की दिशा में डॉ. मित्तल ने विचारशील पहल की है तथा एनबीसीसी ने पहले से ही देश भर में एक विशाल भूमि बैंक बना रही है और सरकारी संपत्तियों के पुनर्विकास में सक्रियता से भाग ले रही है।

एक विनम्र पृष्ठभूमि तथा साफ-सुथरे पेशेवर कैरियर वाले डा. मित्तल ने थापर इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एण्ड टैक्नोलॉजी से सिविल इंजीनियरिंग में स्नातक उपाधि प्राप्त की है सिविल और निर्माण इंजीनियरिंग के क्षेत्र में उनकी उल्लेखनीय उपलब्धियों के आधार पर सिंघानिया विश्वविद्यालय के कुलपति द्वारा उन्हें डॉक्टर ऑफ फिलॉसफी (मानद) उपाधि से सम्मानित किया गया है। ब्रिटेन में स्नातकोत्तर कोर्स करने के अलावा उन्होंने ट्रेंचलेस प्रौद्योगिकी, सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट, ठोस कचरा प्रबंधन परियोजनाओं, भवन प्रौद्योगिकी आदि पर, जर्मनी, इंग्लैंड, फ्रांस और इटली में प्रशिक्षण प्राप्त किया है।

सिविल इंजीनियरिंग के क्षेत्र में अपने विशाल अनुभव और उनकी नेतृत्व क्षमता के कारण डॉ. मित्तल को विभिन्न व्यावसायिक निकायों द्वारा सदस्य / अध्यक्ष के रूप में चुना गया है जिसमें निम्नलिखित शामिल हैं :

  • कार्यकारिणी सदस्य: स्टैंडिंग कॉन्फ्रेंस ऑफ पब्लिक एंटरप्राइजेस (स्कोप)
  • अध्यक्ष: वाणिज्य एवं उद्योग भारतीय परिसंघ की रियल एस्टेट समिति (फिक्की)
  • सदस्य: थापर इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग एण्ड टैक्नोलॉजी की शासीपरिषद
  • सदस्य: अखिल भारतीय हाउसिंग डेवलपमेंट एसोसिएशन (एआईएचडीए)
  • सदस्य: दिल्ली चैंबर ऑफ कॉमर्स
  • आजीवन सदस्य: दिल्ली उत्पादकता परिषद (डीपीसी)
  • आजीवन सदस्य: निर्माण उद्योग विकास परिषद (सीआईडीसी)
  • संरक्षक सदस्य: नेशनल रियल एस्टेट डेवलपमेंट काउंसिल (एनएआरईडीसीओ)
सीईपीएम पीएमए मानद फेलोशिप पुरस्‍कार 2014

डॉ. अनूप कुमार मित्‍तल, सीएमडी, एनबीरसीसी को 2014 में, प्रबंधन प्रोफेशनल के रूप में इंटरनेशनल प्रोजेक्‍ट मैनेजमेंट एसोसिएशन आनरेरी फेलोशिप पुरस्‍कार प्रदान किया गया।

नवरत्‍न दर्जा प्राप्‍त करने पर स्‍कोप फेलिसिटेशन

निर्माण और अवसंरचना में सर्वश्रेष्‍ठ विकासवान कंपनी की श्रेणी में स्‍कोप पुरस्‍कार एनबीसीसी की एक और उपलब्धि है। यह प्रतिष्ठित पुरस्‍कार भारत के महामहिम राष्‍ट्रपति द्वारा वर्ष 2014 में दिल्‍ली में प्रदान किया गया।


रियल एस्‍टेट पुरस्‍कार,2014

डॉ. अनूप कुमार मित्‍तल, सीएमडी एनबीसीसी को वर्ल्‍ड वाइट अचीवर्स प्राईवेट लिमिटेड इंफ्रा पर्सन आफ द ईयर पुरस्‍कार वर्ष 2014 में प्रदान किया गया।

आईपीएसई पुरस्‍कार 2014
डॉ. अनूप कुमार मित्‍तल, सीएमडी, एनबीसीसी को उत्‍कृष्‍टता के लिए इंडिया पब्लिक सेक्‍टर एंटर प्राइजेस पुरस्‍कार : ईएनईआरटीआईए फाउंडेशन पीएसई पर्सोना आफ द ईयर 2014 पुरस्‍कार


सीआईडीसी विश्‍वकर्मा पुरस्‍कार 2014

डॉ. अनूप कुमार मित्‍तल, सीएमडी, एनबीसीसी को पब्लिक आफिसर के रुप में कंस्ट्रक्शन इंडस्ट्री डेवलपमेंट काउंसिल उपलब्धि पुरस्‍कार, 2014 में प्रदान किया गया।

उद्योग रत्‍न पुरस्‍कार

डॉ. अनूप कुमार मित्‍तल एवं एनबीसीसी को इंडियन इकोनोमिक सोसायटी (आईईएस) वर्ष 2014 में देश के प्रति योगदान के लिए उत्‍कृष्‍टता प्रमाण पत्र एवं गोल्‍ड मेडल प्रदान किया गया।


Click here for Pledge